भीमकुंड में होगी गंगा जल की आपूर्ति

Uncategorized

उत्तराखंड मानव अधिकार आयोग के सदस्य न्यायमूर्ति अखिलेश चंद्र शर्मा के आदेश से महाभारत कालीन भीमकुंड के दिन बहुरने वाले हैं। पर्यावरण मित्र रवीन्द्र मिश्रा की शिकायत पर आयोग ने उत्तराखंड शहरी विकास शासन तथा मेलाधिकारी कुंभ का जवाब तलब किया था। आयोग के हस्तक्षेप के बाद शासन ने मेलाधिकारी से भीमकुंड जलधारा की आपूर्ति कार्य की योजना तलब की। सिंचाई खंड हरिद्वार ने 20 लाख रुपए की योजना बनाई। जिसमें कुंभ मेला तकनीकी सैल ने कटौती कर 18.33 लाख रुपए की स्वीकृति प्रदान की है। जिसके सापेक्ष शासन ने प्रथम किश्त के रूप में 7.33 लाख रुपए अवमुक्त कर दिए हैं और सिंचाई खंड हरिद्वार ने टेंडर प्रक्रिया शुरू कर दी है।
मेलाधिकारी दीपक रावत की ओर से अपर मेलाधिकारी ललित नारायण मिश्रा ने उत्तराखंड मानव अधिकार आयोग के प्रशासनिक अधिकारी को पत्र के माध्यम से आयोग के आदेश के अनुपालन की गई कार्रवाई की जानकारी दी है। शासन तथा मेलाधिकारी द्वारा दी गई जानकारी की प्रतियां आयोग ने शिकायतकर्ता रवींद्र मिश्रा को भेजकर इसके सापेक्ष अपना पक्ष प्रस्तुत करने का आदेश दिया है।
रवीन्द्र मिश्रा ने बताया कि मानव अधिकार आयोग के न्यायमूर्ति अखिलेश चंद्र शर्मा ने महाभारत कालीन भीमकुंड की जलधारा को बाधित किए जाने को गंभीरता से लिया तथा कुंभ 2021 की तैयारियों के मद्देनजर भीमकुंड के लिए जलधारा की आपूर्ति सुनिश्चित करने का आदेश दिया था। इसके बाद शासन से लेकर मेला प्रशासन की सक्रियता से योजना बनाया जाना संभव हो पाया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *