दिव्य शक्तियों का भंडार है लालकुआं का मां अवंतिका देवी मंदिर

Dharm

तारा पांडे
लालकुआं क्षेत्र का मां अवंतिका सिद्ध शक्तिपीठ देवी मंदिर श्रद्धालुओं की अपार आस्था का केंद्र है यह देव दरबार दिव्य शक्तियों का भंडार है जिसके दर्शन कर एक ऐसी सुखद अनुभूति प्राप्त होती है कि लगता है मानो जीवन का परम सुख यही है इस देव दरबार के दर्शन करने के बाद दुनिया के सभी ऐश्वर्य वैभव धन पद प्रतिष्ठा सब शून्य जान पड़ते हैं और जो एक बार देवी मां के दर्शन कर लेता है वह बार-बार यही प्रार्थना करता है कि उसे सदैव देवी मां की अनुकंपा प्राप्त हो यह मंदिर अत्यंत प्राचीन है और वैष्णवी रूप में देवी मां यहां पर पूजी जाती हैं समय-समय पर यहां बड़े धार्मिक अनुष्ठान भी संपन्न कराए जाते हैं शिव पुराण श्रीमद् देवी भागवत श्रीमद् भागवत दुर्गा पूजा महोत्सव जैसे बड़े कार्यक्रम यहां होते रहे हैं हालांकि इस बार कोरोनावायरस के संक्रमण के खतरों को देखते हुए बड़े कार्यक्रम नहीं हो सकेंगे इस मंदिर का दिव्य वातावरण शब्दों में बखान नहीं किया जा सकता सिर्फ उसका अनुभव किया जा सकता है यहां का नैसर्गिक वातावरण भी अतुलनीय है इस देव दरबार में पहुंचते ही मनुष्य को आत्म तत्व का ज्ञान होता है मां अवंतिका मंदिर में माता कोट गाड़ी का दरबार, विघ्नविनाशक गणेश मंदिर, भोलेनाथ मंदिर शनिदेव मंदिर हनुमान मंदिर समेत अन्य मंदिरों की भी स्थापना की गई है जो सभी दिव्य चेतना एवं अलौकिक शक्तियों के समुच्चय हैं मंदिर के पुजारी आचार्य चंद्रशेखर जोशी मां अवंतिका मंदिर की महिमा पर प्रकाश डालते हुए कहते हैं कि जो भी भक्त सच्चे मन से मां के दरबार में शीश नवाता है उसकी समस्त मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं और वह तमाम प्रकार के विपत्तियों एवं कष्टों से मुक्त हो जाता है
लेखिका लालकुआं नगर की प्रमुख समाज सेविका हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *