मकर संक्रांति पर हरिद्वार में गंगा स्नान

Uncategorized

तीर्थ यात्रियों की भारी भीड़
कड़ाके की ठंड और कोरोना पर श्रद्धालुओं की भारी पड़ी आस्था

हरिद्वार 14 जनवरी आज मकर संक्रांति के अवसर पर ठंड के बावजूद लोगों ने भारी तादाद में हर की पैड़ी पर गंगा में डुबकी लगाई और इस अवसर पर आज सुबह तड़के ही लोग हर की पैड़ी भारी तादाद में पहुंचने शुरू हो गए थे श्रद्धालुओं ने हर की पैड़ी पर नंगा स्नान करने के साथ-साथ अपने देवी-देवताओं को भी स्नान कराया और ढोल धमाल साथ हर की पैड़ी पर पहुंचे आज मकर संक्रांति के दिन लोगों ने गंगा स्नान के बाद तिल उड़द की दाल की खिचड़ी दान की और मांगलिक कार्य संपन्न कराए आज सूर्य दक्षिणायन से उत्तरायण में प्रवेश कर गए हैं और इसी के साथ आज से शुभ कार्य शुरू हो गए हैं हर की पैड़ी पर मेला प्रशासन ने कुंभ की तर्ज पर व्यवस्था की थी और हर की पैड़ी पर चारों और बड़ी तादाद में पुलिस तैनात की गई थी हर की पैड़ी पर गंगा स्नान करने के लिए भारत के विभिन्न प्रांतों राजस्थान मध्य प्रदेश दिल्ली उत्तराखंड उत्तर प्रदेश पंजाब हरियाणा के अलावा नेपाल से भी बड़ी तादाद में लोग गंगा में स्नान करने आए मकर संक्रांति पर गंगा में स्नान करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है ऐसी धार्मिक मान्यता है
मकर संक्रांति के मौके पर हर की पैड़ी पर बड़ी तादाद में श्रद्धालुओं ने गंगा में डुबकी लगाई और अपने घर से देवताओं को भी गंगा में ढोल नगाड़े बजाकर साथ में लेकर हर की पैड़ी आए कड़ाके की ठंड और कोरोना महामारी का डर भी लोगों की आस्था पर भारी पड़ा और लोगों ने गंगा में जमकर स्नान किया और तिल गुड उड़द की दाल की खिचड़ी का दान किया आज के दिन तिल गुड़ उड़द की दाल की खिचड़ी दान करने से और हर की पैड़ी पर गंगा स्नान करने से पुण्य की प्राप्ति होती है हर की पैड़ी पर कुंभ मेले की तर्ज पर सुरक्षा व्यवस्था कड़ी की गई थी चप्पे-चप्पे पर पुलिस तैनात थी मकर सक्रांति को उत्तरायणी पर्व के रूप में उत्तराखंड में बनाते हैं मकर संक्रांति भारत का प्रमुख पर्व है। मकर संक्रांति (संक्रान्ति) पूरे भारत और नेपाल में किसी न किसी रूप में मनाया जाता है। पौष मास में जब सूर्य मकर राशि पर आता है तभी इस पर्व को मनाया जाता है। यह त्योहार जनवरी माह के चौदहवें पड़ता है इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ मकर राशि में प्रवेश करते हैं ।
पौष मास में सूर्य के मकर राशि में आने पर तमिलनाडु में इसे पोंगल नामक उत्सव के रूप में मनाते हैं जबकि कर्नाटक, केरल तथा आंध्र प्रदेश में इसे केवल संक्रांति ही कहते हैं। मकर संक्रान्ति पर्व को कहीं-कहीं उत्तरायणी भी कहते हैं, उत्तराखंड के कुमाऊं क्षेत्र में इस पर्व उत्तरायणी के रूप में मनाते हैं और इस दिन काले कौवा काले घुघुति माला खा ले
उत्तरायनी यानी घुघुतिया त्योहार
उत्तराखंड राज्य के कुमाऊं में मकर संक्रांति पर ‘घुघुतिया’ के नाम एक त्योहार मनाया जाता है। इस त्योहार की अपनी अलग ही पहचान है। त्योहार का मुख्य आकर्षण कौवा है। बच्चे इस दिन बनाए गए घुघुते कौवे को खिलाकर कहते हैं- ‘काले कौवा काले घुघुति माला खा ले’।


हरिद्वार 14 जनवरी आज मकर संक्रांति के अवसर पर ठंड के बावजूद लोगों ने भारी तादाद में हर की पैड़ी पर गंगा में डुबकी लगाई और इस अवसर पर आज सुबह तड़के ही लोग हर की पैड़ी भारी तादाद में पहुंचने शुरू हो गए थे श्रद्धालुओं ने हर की पैड़ी पर नंगा स्नान करने के साथ-साथ अपने देवी-देवताओं को भी स्नान कराया और ढोल धमाल साथ हर की पैड़ी पर पहुंचे आज मकर संक्रांति के दिन लोगों ने गंगा स्नान के बाद तिल उड़द की दाल की खिचड़ी दान की और मांगलिक कार्य संपन्न कराए आज सूर्य दक्षिणायन से उत्तरायण में प्रवेश कर गए हैं और इसी के साथ आज से शुभ कार्य शुरू हो गए हैं हर की पैड़ी पर मेला प्रशासन ने कुंभ की तर्ज पर व्यवस्था की थी और हर की पैड़ी पर चारों और बड़ी तादाद में पुलिस तैनात की गई थी हर की पैड़ी पर गंगा स्नान करने के लिए भारत के विभिन्न प्रांतों राजस्थान मध्य प्रदेश दिल्ली उत्तराखंड उत्तर प्रदेश पंजाब हरियाणा के अलावा नेपाल से भी बड़ी तादाद में लोग गंगा में स्नान करने आए मकर संक्रांति पर गंगा में स्नान करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है ऐसी धार्मिक मान्यता है
मकर संक्रांति के मौके पर हर की पैड़ी पर बड़ी तादाद में श्रद्धालुओं ने गंगा में डुबकी लगाई और अपने घर से देवताओं को भी गंगा में ढोल नगाड़े बजाकर साथ में लेकर हर की पैड़ी आए कड़ाके की ठंड और कोरोना महामारी का डर भी लोगों की आस्था पर भारी पड़ा और लोगों ने गंगा में जमकर स्नान किया और तिल गुड उड़द की दाल की खिचड़ी का दान किया आज के दिन तिल गुड़ उड़द की दाल की खिचड़ी दान करने से और हर की पैड़ी पर गंगा स्नान करने से पुण्य की प्राप्ति होती है हर की पैड़ी पर कुंभ मेले की तर्ज पर सुरक्षा व्यवस्था कड़ी की गई थी चप्पे-चप्पे पर पुलिस तैनात थी मकर सक्रांति को उत्तरायणी पर्व के रूप में उत्तराखंड में बनाते हैं मकर संक्रांति भारत का प्रमुख पर्व है। मकर संक्रांति (संक्रान्ति) पूरे भारत और नेपाल में किसी न किसी रूप में मनाया जाता है। पौष मास में जब सूर्य मकर राशि पर आता है तभी इस पर्व को मनाया जाता है। यह त्योहार जनवरी माह के चौदहवें पड़ता है इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ मकर राशि में प्रवेश करते हैं ।
पौष मास में सूर्य के मकर राशि में आने पर तमिलनाडु में इसे पोंगल नामक उत्सव के रूप में मनाते हैं जबकि कर्नाटक, केरल तथा आंध्र प्रदेश में इसे केवल संक्रांति ही कहते हैं। मकर संक्रान्ति पर्व को कहीं-कहीं उत्तरायणी भी कहते हैं, उत्तराखंड के कुमाऊं क्षेत्र में इस पर्व उत्तरायणी के रूप में मनाते हैं और इस दिन काले कौवा काले घुघुति माला खा ले
उत्तरायनी यानी घुघुतिया त्योहार
उत्तराखंड राज्य के कुमाऊं में मकर संक्रांति पर ‘घुघुतिया’ के नाम एक त्योहार मनाया जाता है। इस त्योहार की अपनी अलग ही पहचान है। त्योहार का मुख्य आकर्षण कौवा है। बच्चे इस दिन बनाए गए घुघुते कौवे को खिलाकर कहते हैं- ‘काले कौवा काले घुघुति माला खा ले’।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *