रामकृष्ण मिशन सेवाश्रम का खाद्यान्न वितरण का दूसरा चरण शुरू, जगजीत पुर फुटबॉल मैदान में की खाद्य सामग्री वितरित

Dharm

हरिद्वार 7 मई  श्री रामकृष्ण मिशन सेवाश्रम कनखल कोरोना संकट के चलते जरूरतमंदों को खाद्यान्न वितरण का दूसरा चरण आज गुरुवार से शुरू किया जिसके तहत आज हरिद्वार के जगजीतपुर  फुटबॉल मैदान में 200 परिवारों को खाद्य सामग्री वितरित की गई। वितरण कार्यक्रम में नगर निगम आयुक्त नरेंद्र यादव, नोडल अधिकारी नरेंद्र यादव, रामकृष्ण मिशन के सचिव स्वामी नित्यशुद्धानंद महाराज और कार्यक्रम संयोजक स्वामी दयाधिपानन्द महाराज (डॉ० शिवकुमार) उपस्थित थे सेवाश्रम ने पहले चरण में कोरोना संकट के चलते 24 दिन में 5 हजार जरूरतमंद परिवारों को खाद्यान्न उपलब्ध कराया गया था, इस तरह करीब 30 हजार लोगों को झुग्गी झोपड़ियों तक खाद्यान्न उपलब्ध कराने में मिशन का अभियान सफल रहा था।               दूसरे चरण के खाद्यान्न वितरण अभियान का उद्घाटन नगर निगम  हरिद्वार के आयुक्त नरेंद्र भंडारी ने करते हुए कहा कि श्री रामकृष्ण मिशन सेवाश्रम द्वारा जरूरतमंदों को खाद्यान्न उपलब्ध कराने का मानवीय कार्य अन्य लोगों के लिए प्रेरणादाई साबित होगा नोडल अधिकारी नरेंद्र यादव ने कहा कि मिशन में पहला कार्यक्रम सफलता के साथ पूरा किया अब दूसरा चरण भी सफलता के साथ पूरा होगा ।            
 मिशन के सचिव स्वामी नित्यशुद्धानंद महाराज    ने कहा कि स्वामी विवेकानंद मिशन के संतों को नर सेवा नारायण सेवा का जो मंत्र दिया है उसे मिशन के संतों ने हमेशा साकार किया है और इस अंतरराष्ट्रीय विपदा के समय पूरे भारत में ही नहीं विश्व में मिशन के संस्थान जरूरतमंद लोगों की मदद के लिए आगे आए।                 
कार्यक्रम के मुख्य संयोजक स्वामी दयाधिपानंद (डॉ शिवकुमार) महाराज ने कहा कि मिशन ने पहले चरण में जरूरतमंदों को 5 हजार राशन की किट वितरित की है। और अब राशन किट वितरण का दूसरा चरण शुरू किया है। कीट में आटा, चावल, दाल, सोयाबीन, आलू, नमक, धनिया, हल्दी, मिर्च, तेल, साबुन है। जो एक परिवार में लगभग 15 दिन तक चलेगा। उन्होंने बताया कि राशन वितरण में लोगों को माक्स के साथ साथ कोरोना वायरस के प्रति जागरूक करने के लिए पंपलेट भी बांटे हैं। और स्वच्छता व सोशल डिस्टेंसिंग का भी विशेषकर ख्याल रखा गया है। उन्होंने बताया कि स्वामी विवेकानंद मिशन के संतों को नर सेवा नारायण सेवा का जो मंत्र दिया है उसे मिशन के संतों ने हमेशा साकार किया है और इस अंतरराष्ट्रीय विपदा के समय पूरे भारत में ही नहीं विश्व में मिशन के संस्थान जरूरतमंद लोगों की मदद के लिए आगे आए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

sixteen + one =