श्री विनीत तोमर की अध्यक्षता में आज कलेक्ट्रेट में जिला कौशल समिति(क्ैब्) की पहली बैठक

Uncategorized

हरिद्वार – मुख्य विकास अधिकारी, हरिद्वार श्री विनीत तोमर की अध्यक्षता में आज कलेक्ट्रेट में जिला कौशल समिति(क्ैब्) की पहली बैठक आयोजित हुई।
बैठक में मुख्य विकास अधिकारी को अधिकारियों ने जिला कौशल समिति के प्रमुख कार्यों एवं दायित्वों के बारे में बताया कि यह समिति जनपद में कहां पर कौशल की आवश्यकता है, उसको चिह्नित कर जिला कौशल विकास योजना तैयार करेगी, विभाग द्वारा क्रियान्वित की जाने वाली विभिन्न योजनाओं के अन्तर्गत संचालित प्रशि़क्षण केन्द्रों का नियमित निरीक्षण एवं उसकी सूचना उत्तराखण्ड कौशल विकास मिशन को प्रेषित करेगी, विभिन्न विभागों द्वारा संचालित कौशल विकास प्रशिक्षण कार्यक्रमों का अनुश्रवण कर सूचना संकलित करना ताकि जिले स्तर पर कौशल विकास की स्थिति स्पष्ट हो सके, जिले में स्थापित निजी उद्यमों/सार्वजनिक उपक्रमों में भारत सरकार द्वारा शिक्षुता हेतु निर्धारित लक्ष्य को प्राप्त करने हेतु कार्य योजना तैयार करना तथा लक्ष्य के सापेक्ष प्राप्ति का निरन्तर अनुश्रवण करना एवं जिले में आजीविका संवर्द्धन हेतु कार्य योजना तैयार करना, प्रशिक्षण कार्यक्रम की रूपरेखा तैयार करना।
मुख्य विकास अधिकारी को आगे यह भी बताया गया कि जिले में स्थापित औद्योगिक इकाइयों की वर्तमान तथा भविष्यात्मक मांग का आंकलन कर कौशल प्रशिक्षण क्षेत्र चिह्नित कर उत्तराखण्ड कौशल विकास मिशन को अवगत कराना, स्वरोजगार के क्षेत्र में जिले की सम्भावनाओं का आंकलन कर ऐसे व्यवसायों की पहचान करना, जिनमें स्वरोजगार की सम्भावनायें अधिक हैं। इस आंकलन के आधार पर विभिन्न योजनाओं के अन्तर्गत जनपद में कौशल प्रशिक्षण आयोजित किये जाने हेतु प्रस्ताव उत्तराखण्ड कौशल विकास मिशन को प्रेषित करना, जिले में संचालित आई0टी0आई0/पालीटेक्निक/ लघु अवधि के प्रशिक्षण केन्द्रों में जनपद की विशेष आवश्यकतानुसार व्यवसाय/ट्रेड संचालित किये जाने हेतु प्रस्ताव विभाग को प्रस्तुत करना।
श्री विनीत तोमर को अधिकारियों ने जानकारी दी कि जिले में पूर्व से दक्ष कामगार, जिन्होंने औपचारिक प्रशिक्षण प्राप्त नहीं किया हो, को चिह्नित कर उन्हें आर0पी0एल0 योजना के माध्यम से प्रमाणित कराने हेतु प्रस्ताव उत्तराखण्ड कौशल विकास मिशन को भेजना, जनपद में संचालित कौशल प्रशिक्षण कार्यक्रमों के प्रशिक्षकों का प्रशिक्षण कराने में सहयोग करना, जिले में रोजगार मेलों के आयोजन में सहयोग एवं विभिन्न पोर्टल का प्रचार-प्रसार कर युवाओं को जोड़ने हेतु प्रयास करना, किसी विशेष/वंचित वर्ग के अभ्यर्थियों को प्रशिक्षित किये जाने हेतु कौशल विकास मिशन को प्रेषित करना, जनपद में परम्परागत कला, संस्कृति के स्थानीय कलाकारों, शिल्पकारों की आवश्यकताओं का आंकलन कर उत्तराखण्ड कौशल विकास मिशन को प्रस्तुत करना तथा कौशल प्रतियोगिता में प्रतिभाग करने हेतु जिले के युवाओं को प्रेरित करना एवं इस योजना का प्रचार-प्रसार कर इस प्र्रतियोगिता के आयोजन में सहयोग करना आदि के बारे में विस्तार से जानकारी दी।
बैठक में कौशल विकास के अन्तर्गत उड़ीसा के केन्द्रपाडा के ’’गोल्डन ग्रास क्राफ्ट की सफल कहानी के रूप में चर्चा हुई, जिसमें उड़ीसा जिले के केन्द्रपाडा जनपद के महिलाओं ने टोकरियों की बुनाई आकर्षित वस्तुयें आदि बनाने में महारत हांसिल की है।
बैठक में मुख्य विकास अधिकारी ने अधिकारियों को निर्देशित किया कि अगली बैठक एक सप्ताह में जिलाधिकारी की अध्यक्षता में पुनः आयोजित की जाये, जिसमें उद्योग/आई0टी0आई/पालीटेक्निक के प्रतिनिधियों को भी आमंत्रित किया जाये।
बैठक में क्षेत्रीय/जिला सेवा योजन अधिकारी, मुख्य शिक्षा अधिकारी, जिला अर्थ एवं संख्याधिकारी, महाप्रबन्धक जिला उद्योग केन्द्र, सहायक श्रमायुक्त, क्षेत्रीय प्रबन्धक सिडकुल आदि उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *