शिक्षा जगत के लिए प्रेरणा स्रोत है विराट व्यक्तित्व की धनी प्रेमलता आर्य

Haridwar News

शिक्षक दिवस के अवसर पर जब कभी भी शिक्षा के क्षेत्र में आदर्श स्थापित करने वाले टीचर्स का जिक्र आता है तो एक नाम स्वतह ही सामने आ जाता है वह नाम है राजकीय बालिका इंटर कॉलेज दौलिया हल्दूचौड़ की सेवानिवृत्त प्रधानाचार्य प्रेमलता आर्य का , गत वर्ष सेवानिवृत हुई प्रधानाचार्य प्रेमलता आर्य का 36 वर्ष का कार्यकाल उपलब्धियों से भरा है शिक्षा के क्षेत्र में उनके द्वारा किए गए उत्कृष्ट कार्यों की एक लंबी श्रृंखला है इसके अलावा गरीब व मेधावी बच्चों के लिए उनके द्वारा दिया गया प्रोत्साहन भी किसी नजीर से कम नहीं है सरकारी स्कूल में नौकरी करने के बावजूद शिक्षा की बेहतर व्यवस्था के लिए अपने खुद के स्तर से भी कई सराहनीय कार्य किए अनुशासन प्रिय प्रेमलता आर्य दरियादिल इंसान के रूप में जानी जाती है जहां कहीं भी उन्होंने देखा कि गरीब व मेधावी बच्चे साधनों से वंचित हैं तो उन्होंने अपने स्तर से उन्हें हर संभव सुविधा साधन उपलब्ध कराएं प्रेमलता आर्य ने 2013 में राजकीय बालिका इंटर कॉलेज दौलिया में ज्वाइनिंग ली एक प्रिंसिपल के रूप में उनके लिए सबसे बड़ी चुनौती विद्यालय का शैक्षिक माहौल अच्छा बनाया था वहीं विद्यालय मैं पठन-पाठन से संबंधित व्यवस्थाओं को दुरुस्त भी करना था जब उन्होंने देखा कि विद्यालय के बच्चे बैठने तक के लिए फर्नीचर के लिए तरस रहे हैं जमीन पर बैठकर ही उनको पढ़ाई करनी होती है तो उन्होंने खुद के प्रयासों से तथा टाटा मोटर्स से से बातचीत कर विद्यालय के लिए फर्नीचर की व्यवस्था की उसके बाद उन्होंने विद्यालय के कई कमरों को स्मार्ट क्लासरूम के रूप में विकसित किया शिक्षा के क्षेत्र में सराहनीय प्रयास करने वाली प्रेम लता उत्तराखंड के ख्याति प्राप्त शैलेश मटियानी राजकीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया भारत सरकार द्वारा चलाए जा रहे भारत स्वच्छता अभियान के तहत पूरे देश में राजकीय बालिका इंटर कॉलेज दौलिया को स्वच्छता के क्षेत्र में 12 वां स्थान प्राप्त हुआ जो इस क्षेत्र की ही नहीं बल्कि राज्य के लिए एक बहुत बड़ी उपलब्धि थी तत्कालीन मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने उन्हें दिल्ली में भारत सरकार द्वारा प्रदत्त पुरस्कार प्रदान किया उत्तराखंड से पुरस्कार प्राप्त करने वाली वे एकमात्र शख्सियत थी विद्यालय के शैक्षणिक माहौल को बेहतर करने के अलावा उन्होंने विद्यालय की सांस्कृतिक गतिविधियों को बढ़ावा दिया और बच्चों के अंदर रचनात्मक कार्य करने का मार्ग प्रशस्त किया एक शिक्षक होने के साथ-साथ एक मंझी हुई कलाकार भी वे रही है तथा कत्थक नृत्य में उन्हें महारत हासिल है उन्होंने अपनी इस कला का लाभ विद्यालय के बच्चों को भी दिया और सांस्कृतिक गतिविधियों में विद्यालय के बच्चों ने उत्कृष्ट प्रदर्शन किया राजकीय विद्यालय होने के बावजूद उनके अपने खुद के प्रयासों से 5 वर्ष तक लगातार सांस्कृतिक महोत्सव संपन्न कराया गया उन्होंने विद्यालय के लिए एक बैंड धुन की टीम का भी गठन किया और बैंड प्रतियोगिता में राजकीय बालिका इंटर कॉलेज दौलिया ने देहरादून में जाकर अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया टाटा मोटर्स के अलावा उन्होंने ओएनजीसी से भी बात कर विद्यालय के लिए फर्नीचर की व्यवस्था का आग्रह किया ओएनजीसी ने उनके आग्रह पर पांच लाख ५६ हजार की धनराशि स्वीकृत कराई लगातार बच्चों से काउंसलिंग करना उनकी प्रतिभा को तराशना और उन्हें उचित मार्गदर्शन देना उनके कार्यकाल का अभिन्न हिस्सा रहा निर्धन बच्चों के पठन-पाठन में किसी प्रकार की कोई दिक्कत न हो इसको लेकर भी उन्होंने स्वयं के प्रयासों से हर संभव मदद की रिटायरमेंट के बाद भी उनके अंदर समाज के लिए कुछ कर गुजरने का जज्बा कूट-कूट कर भरा है 24 मार्च से देश में लॉकडाउन लागू होने के बाद जरूरतमंदों को तमाम प्रकार की दिक्कतों का सामना करना पड़ा ऐसे में दरिया दिल की धनी प्रेमलता के मन में सेवा भाव करने का जज्बा पैदा हुआ और उन्होंने लाल कुआं में नेहा रोटी बैंक के कार्यों की सराहना करते हुए उन्हें ₹5000 की धन राशि प्रदान की इसके अलावा तमाम सामाजिक सांस्कृतिक और धार्मिक कार्यों को बढ़ावा देने के लिए भी अपने स्तर से हरसंभव मदद करती रहती हैं शैलेश मटियानी राजकीय पुरस्कार के अलावा भारत स्वच्छता अभियान के तहत राष्ट्रीय पुरस्कार तथा शिक्षा के क्षेत्र में ही एक अन्य राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त कर चुकी प्रेमलता को स्थानीय स्तर भी तमाम सम्मान से नवाजा गया है पूर्व मंत्री हरीश चंद्र दुर्गापाल पूर्व शिक्षा मंत्री, विधायक नवीन दुम्का तथा मानव उत्थान सेवा समिति द्वारा प्रेम लता आर्य को उनके उत्कृष्ट कार्यो के लिए सम्मानित किया जा चुका है उनकी प्रेम रूपी लताओं का सानिध्य पा चुके कई बच्चे आज अपनी जिंदगी के बेहतर मुकाम को हासिल कर चुके हैं प्रेमलता आर्य का कहना है कि अपने कर्तव्यों का अपने दायित्वों का अपनी जिम्मेदारियों का पूरी ईमानदारी एवं निष्ठा के साथ पालन करना ही सच्ची सेवा है और जब इंसान को भगवान ने सक्षम बनाया है तो इंसान का भी फर्ज बनता है कि वह जरूरतमंद लोगों की सेवा करें क्योंकि परोपकार से बड़ा कोई धर्म नहीं है उन्होंने जेईई मेंस तथा नीट की परीक्षा की तैयारी कर रहे अथवा परीक्षा दे रहे विद्यार्थियों के उज्जवल भविष्य की कामना की है साथ ही उन्होंने ईश्वर से प्रार्थना की है कि वैश्विक महामारी कोरोना का संक्रमण शीघ्र समाप्त हो सभी स्वस्थ रहें सभी निरोगी रहें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *