मेहन्दी है उल्लास, खुशहाली एवं त्याग का प्रतीक- डाॅ बत्रा काॅलेज में किया गया आजादी का अमृत महोत्सव

art Blog Design Haridwar News nature Uttarakhand

मेहन्दी है उल्लास, खुशहाली एवं त्याग का प्रतीक- डाॅ बत्रा
काॅलेज में किया गया आजादी का अमृत महोत्सव पर प्रासंगिक मेहन्दी प्रतियोगिता का आयोजन
हरिद्वार 23 मार्च एस.एम.जे.एन. पी.जी. काॅलेज में आज ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ पखवाड़े के अन्तर्गत छात्र-छात्राओं द्वारा मेहन्दी प्रतियोगिता का आयोजन किया गया।
मेहन्दी प्रतियोगिता में दीक्षा वर्मा ने ‘अमर शहीद’ प्रथम पुरस्कार प्राप्त कर गोल्ड मैडल प्राप्त किया। स्वाति व हिमांशी वर्मा ने रजत, दिव्या, सुरभि व अफसाना ने कांस्य पदक तथा निधि, एकता, गौरव बंसल, श्रुति गुप्ता को सांत्वना पुरस्कार दिया गया।
मेहंदी प्रतियोगिता में वंदना ने तिरंगा, शिवानी निशाद ने स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, निधि ने आजादी का उत्सव, एकता ने महात्मा गांधी, सुरभि ने सत्यमेव जयते, खुशी ने सेव स्पेरो, प्रेरणा ने तिरंगा, स्वाति ने जल ही जीवन है, दीक्षा वर्मा ने अमर शहीद, प्रिया सिंह ने सेव स्पेरो, प्रियल मैथारिया ने शहीद दिवस, अफसाना ने रानी लक्ष्मीबाई, दिव्या ने रानी लक्ष्मीबाई, हिमांशी वर्मा ने सेव स्पेरो, गौरी अग्रवाल ने तिरंगा, दिशा अग्रवाल ने सत्यमेव जयते, मोनिका फ्रीडम एण्ड हाउस स्पेरो, ईशा केसरी ने आजाद भारत, श्रुति गुप्ता ने दाण्डी मार्च, रीतिका सिंह ने स्पेरो डे, स्तुति गोयल ने सत्यमेव जयते, काजल ने महात्मा गांधी, गौरव बंसल ने शहीद दिवस, सुमैला ने मेरा भारत महान, जूली तिवारी सेव स्पेरो, मनीषा अग्रवाल ने महाराणा प्रताप सिंह, नवीशा अग्रवाल ने रानी लक्ष्मीबाई तथा रहनुमा ने मेहन्दी प्रतियोगिता में तिरंगा अपनी-अपनी प्रतिभा को दिखाया।

विजेता प्रतिभागियों को को पुरस्कृत करते हुए काॅलेज के प्राचार्य डाॅ. सुनील कुमार बत्रा ने कहा कि मेहन्दी देश की खुशहाली, तरक्की ,मुस्कुराहट के प्रतीक के साथ साथ त्याग एवं बलिदान का प्रतीक भी है। मेहंदी का लाल रंग जो शहीदों के त्याग एवं बलिदान का  प्रतीक भी है। उन्होंने अपने खून से इस देश को आजादी दिलायी है। हम सब आजाद भगत सिंह, शहीद राजगुरू एवं शहीद सुखदेव को श्रद्धासुमन अर्पित कर नमन करते हैं एवं उनके प्रति अपनी कृतज्ञता प्रकट करते हैं।  
संचालन कर रहे छात्र कल्याण अधिष्ठाता डाॅ. संजय माहेश्वरी ने कहा कि इस क्षेत्र मे केवल महिलायें ही नहीं अपितु पुरूष भी रोजगार प्राप्त कर रहे हैं। यह स्वरोजगार का एक बहुत बड़ा बाजार विकसित हो रहा है।  
अधिष्ठाता छात्र कल्याण डाॅ. सरस्वती पाठक ने सभी प्रतिभागियों को शुभकामनायें देते हुए कहा कि कि आज सौन्दर्य से सम्बन्धित उत्पादों का बाजार बहुत वृहद है।  
निर्णायक मण्डल की भूमिका का निवर्हन श्रीमति रिंकल गोयल, श्रीमति रिचा मिनोचा, डाॅ. निविन्धया शर्मा, आस्था आनन्द, डाॅ. लता शर्मा द्वारा किया गया। 
कार्यक्रम का संयोजन डाॅ. प्रज्ञा जोशी, कु. नेहा सिद्दकी, विनीत सक्सेना नेहा गुप्ता, डाॅ. पूर्णिमा सुन्दरियाल, डाॅ. पुनीता शर्मा, डाॅ. पदमावती तनेजा, दीपिका आनन्द, श्रीमति स्वाति चोपड़ा, श्रीमति प्रीति लखेड़ा, प्रिंस श्रोत्रिय आदि द्वारा किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

three × two =