भारत विकास parishad अविरल गंगा शाखा द्वारा आयोजित किए जा रहे 6 दिवसीय संस्कार शिविर

Haridwar News Uttarakhand

भारत विकास parishad अविरल गंगा शाखा द्वारा आयोजित किए जा रहे 6 दिवसीय संस्कार शिविर का आज दिनाँक 25 May 2021 को समापन हुआ. कार्यक्रम का संचालन पूर्व प्रांतीय अध्यक्ष और आईआईटी के प्रोफेसर डॉ सत्येंद्र मित्तल ने किया. कार्यक्रम का प्रारंभ श्री पीयूष गर्ग के द्वारा शंख नाद से हुआ. उसके बाद श्रीमती सुगंध जैन के द्वारा वंदे मात्रम की प्रस्तुति की गयी. तत्पश्चात शाखा अध्यक्ष श्रीमती मधु जैन ने स्वागत भाषण प्रस्तुत किया. उसके बाद डॉ संगीता सिंह के नेतृत्व में 10 बच्चों ने विभिन्न विषयों पर अपने भाषण प्रस्तुत किए. आज ही बच्चों को ‘हमारे संस्कार’ विषय पर चित्र प्रतियोगिता पर पुरस्कारों की घोषणा की गयी जिसमें, marwari कन्या inter college की कुमारी vaishnavi को Pratham, कुमारी पायल पाल और कुमारी उर्वशी को द्वितीय और कुमारी जिज्ञासा और रेणुका को तृतीय पुरस्कार दिया गया. प्राकृतिक विपदा विषय पर चित्र प्रतियोगिता मे कुमारी सारा को pratham, कुमारी नसरीन और कुमारी कुमकुम को द्वितीय और कुमारी कशिश और कुमारी मोनिका को तृतीय पुरस्कार दिया गया. जल संसाधन और बचत विषय पर चित्र प्रदर्शनी में कुमारी राबिया pratham, कुमारी सादिया और विधि धीमान द्वितीय और कुमारी शिवानी और इंदु तृतीय आयी. आत्मनिर्भर विषय पर चित्र प्रदर्शनी में कुमारी कुमकुम pratham, कुमारी उर्वशी और विधि द्वितीय और कुमारी भावना और मानसी तृतीय घोषित की गई. दो अन्य प्रतियोगिताएं जैसे हिन्दू नव वर्ष पर कार्ड प्रतियोगिता और bhagwan महावीर की चित्र की पेंटिंग प्रतियोगिता आयोजित की गई थी जिसमें केंद्रीय विद्यालय से कुमारी आशु pratham और कुमारी नैना द्वितीय आए. अति विशिष्ट अतिथि और भारत विकास parishad के प्रांतीय महा सचिव , श्री जे के मूंगा ने शिविर के आयोजन की भूरि भूरि प्रशंसा की. अन्य विशिष्ट अतिथि और भारत विकास parishad के प्रांतीय अध्यक्ष श्री बी पी गुप्ता ने बच्चों को उचित संस्कार दे कर समाज सेवा करने पर बल दिया. मुख्य अतिथि के रूप में भारत विकास parishad के राष्ट्रीय मंत्री श्री मनोज awasthi ने कहा कि अविरल गंगा शाखा उत्तराखंड प्रांत की सर्वश्रेष्ठ शाखा है, अतः इस शाखा को राष्ट्रीय स्तर पर भी ऐसे संस्कार शिविर करने पड़ेंगे ताकि बच्चों का सर्वांगीण विकास हो और बच्चे जो प्राचीन संस्कृति और संस्कारों से विमुख होते जा रहे हैं, उन्हें फिर से यह सब सिखाया जाय ताकि एक सभ्य समाज का निर्माण हो सके. श्री सुनील जैन और श्रीमती meenu जैन के द्वारा राष्ट्रीय गान प्रस्तुत किया गया. इस शिविर में ल़डकियों को स्वावलंबी और आदर्श नागरिक बनने के लिए प्रेरित किया गया जिसमें हर मज़हब की 40 लड़कियां विभिन्न विद्यालयों से सम्मिलित हुईं. श्रीमती रीति वर्मा सचिव ने सभी को धन्यवाद किया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seven + twenty =