प्रेस विज्ञप्ति-23-6-2021 आज जिला भाजपा कार्यालय हरिद्वार पर जनसंघ के संस्थापक

Uncategorized

प्रेस विज्ञप्ति-23-6-2021 आज जिला भाजपा कार्यालय हरिद्वार पर जनसंघ के संस्थापक अध्यक्ष डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी के स्मृति दिवस पर जिला पदाधिकारियों के द्वारा श्रद्धांजलि दी गई जिसका संचालन जिला महामंत्री आदेश सैनी ने किया उपस्थित कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए जिलाध्यक्ष डॉक्टर जयपाल सिंह चौहान ने कहा कि डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी हम सबके प्रेरणा स्रोत है उनके द्वारा किए गए कार्यों को हम आत्मसात करते हुए भारतीय जनता पार्टी को नई ऊंचाइयों तक ले जाने का काम करेंगे डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी जैसे व्यक्तित्व के लोग विरले ही होते हैं डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने जीवन के 52 साल के अंतिम 14 साल राजनीति में डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी कोलकाता विश्वविद्यालय के सिंडिकेट केवल 23 साल की उम्र में सबसे युवा सदस्य के रूप में सम्मिलित हुए एवं 33 साल की उम्र में वे विश्वविद्यालय के उप कुलपति बने 1934 से 1938 तक उन्होंने कुलपति के रूप में दो कार्यकालओं का निष्ठा के साथ निर्वहन किया राष्ट्रवादी विद्वानों को उन्होंने भरपूर सहयोग एवं समर्थन दिया भारतीय इतिहास संस्कृति तथा पुरातत्व के संबंध में उनकी गहरी रुचि रही डॉक्टर मुखर्जी ने सक्रिय राजनीति में प्रवेश किया तो उन्होंने बंगाल की मुस्लिम लीग सरकार के भयावह तौर-तरीकों के विरुद्ध संघर्ष को आगे बढ़ाया नेहरू सरकार के गठन में उद्योग राज्यमंत्री के रूप में सम्मिलित हुए 1950 में पाकिस्तान में हिंदुओं की दयनीय स्थिति में देखते हुए तथा नेहरू लियाकत समझौते के विरोध में मंत्रिमंडल से त्यागपत्र दे दिया नेहरू जी की जम्मू एवं कश्मीर के संदर्भ में हिंदू विरोधी एवं पाकिस्तान परस्त नीतियों के कारण राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक श्री गुरु जी गोलवलकर जी से मिले विचार विमर्श के उपरांत एक नई राजनीतिक पार्टी बनाने का संकल्प लिया जिसमें मुखर्जी के साथ पंडित दीनदयाल उपाध्याय, बलराज माधोक, अटल बिहारी वाजपेई ,कुशाभाऊ ठाकरे, नानाजी देशमुख ,सुंदर सिंह भंडारी, जगदीश प्रसाद माथुर जैसे वरिष्ठ कार्यकर्ताओं को राजनीतिक दल की जिम्मेदारी दी गई जिसके फल स्वरुप भारतीय जनसंघ की स्थापना की गई डॉक्टर मुखर्जी ने नेहरू जी से कश्मीर में परमिट एवं दो प्रधान दो निशान को दूर करने को कहा लेकिन उस समय नेहरु जी ने उसको नजरअंदाज किया तब डॉक्टर मुखर्जी ने आंदोलन की शुरुआत करते हुए इसका विरोध करने का निर्णय लिया और बिना परमिट के ही जम्मू-कश्मीर में प्रवेश करते हुए उन्हें गिरफ्तार किया गया रहस्यमय तरीके से 23 जून 1953 सुबह 3:40 पर अंतिम सांस ली लेकिन इस अल्पावधि की राजनीति में उन्होंने देश में एक प्रखर राष्ट्रवादी वक्ता के रूप में अपनी पहचान बनाई और देश की एकता अखंडता के लिए संकल्प बंद होकर काम किया हम सब भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता उनके दिखाएं सिखाये मार्ग पर आगे बढ़े उनके व्यक्तित्व से प्रेरणा लेकर हम भारतीय जनता पार्टी को नई ऊंचाई तक ले जाने का काम करें इसी क्रम में हमारे देश के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी डॉक्टर मुखर्जी के सपनों को साकार करने का काम कर रहे हैं धारा 370 एवं 35 A हटाया जाना उसी दिशा मे महत्वपूर्ण कदम है दिन और रात लगातार बिना थके काम कर रहे हैं कोरोना महामारी की इस दूसरी लहर में भी देश के यशस्वी प्रधानमंत्री मोदी जी ने जिस प्रकार से आगे आकर एक बार फिर से कोरोना योद्धाओं जैसे डॉक्टर, नर्सिंग स्टाफ, स्वच्छता कर्मी ,सुरक्षाकर्मी आदि अधिकारियों के सहयोग से महामारी को नियंत्रित करने का काम किया है और ऑक्सीजन ,वेंटीलेटर, आईसीयू, इंजेक्शन एवं जरूरी दवाइयां की मांग के अनुरूप आपूर्ति बढ़ाकर चिकित्सालयो तक जल्द से जल्द पहुंचाने का काम किया जिसके परिणाम स्वरूप आज कोरोना महामारी पर नियंत्रण पाया जा रहा है डॉक्टर मुखर्जी को भावभीनी श्रद्धांजलि देने वालों में प्रदेश सहमीडिया प्रभारी सुनील सैनी ,जिला उपाध्यक्ष देशपाल रोड ,अनिल अरोड़ा, संदीप गोयल, अंकित आर्य , जिला मंत्री मनोज पवार, जिला कार्यालय प्रभारी लव शर्मा , सोशल मीडिया प्रभारी मोहित वर्मा, आईटी प्रभारी सुशील रावत, विकास प्रजापति, ओबीसी मोर्चा जिला अध्यक्ष प्रदीप पाल, अनुसूचित मोर्चा जिला अध्यक्ष तेलूराम चनालिया, डॉ प्रदीप चौधरी, सूचनार्थ-लव शर्मा( जिला कार्यालय प्रभारी भारतीय जनता पार्टी) हरिद्वार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

16 + two =