स्वामी कैलाशानंद गिरी श्री पंचायती अखाड़ा निरंजनी के आचार्य महामंडलेश्वर बने

Uncategorized

स्वामी कैलाशानंद गिरी श्री पंचायती अखाड़ा निरंजनी के आचार्य महामंडलेश्वर बने
मैं अखाड़े की परंपराओं का निर्वहन करुंगा -आचार्य महामंडलेश्वर कैलाशानंद गिरी दिव्य भव्य पट्टाभिषेक समारोह महंत नरेंद्र गिरि और महन्त रविंद्रपुरी महाराज के सानिध्य में संपन्न हुआ
हरिद्वार 14 जनवरी
आज मकर संक्रांति के मौके पर वैदिक रीति रिवाज और हिंदू धर्म की परंपरा के साथ बड़ी धूमधाम से स्वामी कैलाशानंद गिरी महाराज को आदि जगतगुरु शंकराचार्य वाला स्थापित दशनामी नागा संन्यासी परंपरा के सबसे प्रतिष्ठित अखाड़ा श्री पंचायती निरंजनी अखाड़ा के आचार्य महामंडलेश्वर बनाया गया उन्हें आचार्य महामंडलेश्वर बनाने के लिए एक दिव्य और भव्य पट्टाभिषेक समारोह का आयोजन किया गया।
श्री निरंजनी पंचायती अखाड़ा के सचिव महन्त नरेंद्र गिरी सचिव तथा मनसा देवी मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत रविंद्र पुरी महाराज तथा रमता पंचों की उपस्थिति में अखाड़े के आचार्य महामंडलेश्वर पद पर सुशोभित किया गया और उनका पंचामृत से अभिषेक किया गया आचार्य महामंडलेश्वर का पद अखाड़े का सर्वोच्च पद होता है जो दशनाम नाम नागा संन्यासी परंपरा से जुड़े हुए ब्रहमचारीयों को संन्यास दीक्षा देते हैं
इस अवसर पर विभिन्न 13 अखाड़ों के महामंडलेश्वर श्री महन्त महन्त मौजूद थे जिन्होंने भगवा चादर चढ़ाकर स्वामी श्री कैलाशानंद गिरी महाराज को आचार्य महामंडलेश्वर पद पर सुशोभित किया और सभी संतो ने उम्मीद जताई कि आचार्य महामंडलेश्वर पद पर आसीन होकर स्वामी कैलाशानंद गिरी महाराज हिंदू धर्म ध्वजा को चारों और फहराएंगे और अखाड़े की परंपराओं को निभाते हुए संत समाज का गौरव और मान बढ़ाएंगे
इस अवसर पर मौजूद उत्तराखंड की राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने कहा कि आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी कैलाशानंद गिरी महाराज भारतीय संस्कृति के सच्चे संवाहक हैं उन्होंने हमेशा भारतीय संस्कृति को आगे बढ़ाने के लिए कार्य किया है और अपना जीवन मानव सेवा और संत समाज की सेवा में समर्पित कर दिया है ऐसे संत विरले ही होते हैं
भावुक होते हुए अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष और श्री निरंजनी पंचायती अखाड़ा के सचिव महन्त नरेंद्र गिरि महाराज ने कहा कि अखाड़े के आचार्य महामंडलेश्वर पद पर आसीन हुए स्वामी कैलाशानंद गिरी महाराज जैसा युवा और दिव्य संत संत समाज और हिंदू समाज को एक नई दिशा देगा उन्हें अखाड़ा की सर्वोच्च परिषद रमता पंच और अखाड़े के पदाधिकारियों ने सर्वसम्मति से इस सर्वोच्च पद पर स्थापित किया है निरंजनी पंचायती अखाड़ा के सचिव और श्री मनसा देवी मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष महन्त श्री रविंद्र पुरी महाराज ने कहा कि श्री निरंजनी पंचायती अखाड़ा हमेशा समाज निर्माण और मानव सेवा के लिए कार्य करता रहा है और आज एक युवा संत ने अखाड़ा के सर्वोच्च आचार्य महामंडलेश्वर पद को सुशोभित कर अखाड़े का मान बढ़ाया है और हमें उम्मीद है कि आचार्य श्री अखाड़े की परंपरा का निर्वहन करते हुए संत समाज का नाम रोशन करेंगे उन्होंने कहा कि आचार्य महामंडलेश्वर कैलाशानंद गिरी महाराज एक ऊर्जावान संत हैं और उनसे समाज को बहुत अपेक्षाएं हैं और निरंजनी पंचायती अखाड़ा के सभी पदाधिकारी संत महंत भारतीय संस्कृति के प्रचार प्रसार में उनके साथ कंधे से कंधा मिलाकर कार्य करेंगे
इन भावुक क्षणों में आचार्य महामंडलेश्वर पद पर सुशोभित हुए स्वामी कैलाशानंद गिरी महाराज ने कहा कि आज उनके कंधों पर बहुत बड़ी जिम्मेदारी श्री निरंजनी पंचायती अखाड़ा के महन्त श्री रवींद्र पुरी जी महाराज और महंत नरेंद्र गिरि जी महाराज तथा रमता पंच ने जो दी है वे उसका पूर्ण पालन करेंगे और भारतीय संस्कृति के प्रचार-प्रसार के लिए समर्पित भाव से कार्य करेंगे और हरिद्वार में इस साल होने वाले महाकुंभ मेले को निर्विघ्न और दिव्य भव्य रुप से संपन्न कराने के लिए वे कार्य करेंगे उन्होंने कहा कि वे अखाड़ा और संतों की परंपरा से कभी भी समझौता नहीं करेंगे अखाड़े की उन्नति और संतों के द्वारा बताए गए मार्ग का अनुसरण करेंगे
कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक ने कहा कि आचार्य महामंडलेश्वर कैलाशानंद गिरी महाराज ने हमेशा समाज को नई दिशा दी है और वे एक महान संत हैं उन्होंने हमेशा मानव सेवा को ही अपना धर्म माना है वह मानवता की सच्ची मिसाल हैं संघ के वरिष्ठ पदाधिकारी पदम जी ने कहा कैलाशानंद गिरी महाराज के आचार्य महामंडलेश्वर बनने से हिंदू धर्म को नई दिशा मिलेगी क…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

5 × three =